Tuesday, January 12, 2010

मुझे मालूम है . . .



आज तुमसे मेरे जीवन की, अंतिम बात अब होगी !

न अब काटूँगा दिन तन्हा, न ही ये रात अब होगी !!



मुझे मालूम है, अपना बनाया है कोई तुमने ;
रहते हैं दिल में वो, क्या मेरी औकात अब होगी ?

4 comments:

  1. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    ReplyDelete
  2. अच्‍छा लगा आपका ब्‍लॉग .. इस ब्‍लॉग के साथ आपका हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. आज तुमसे मेरे जीवन की, अंतिम बात अब होगी
    " कयामत की घड़ी होगी......शायद.."
    regards

    ReplyDelete
  4. न अब काटूँगा दिन तन्हा, न ही ये रात अब होगी !!
    kya aisa sach mein hota hai ankur...

    ReplyDelete

Related Posts with Thumbnails