Wednesday, April 21, 2010

फाइव स्टार का आर्डर . . .


न जाने क्यों सभी ने, इक यही सवाल रखा था ?
क्यों मैंने जिंदगी को, मौत का दलाल रखा था ?

कोई रामू के ठेले पर अब, चाट खाने नहीं जाता,
मैंने देखा था इक दिन. पंछी कोई हलाल रखा था !

मुझे तो गाँव की आब-ओ-हवा ही रास आती है,
फाइव स्टार के आर्डर में, चावल-दाल रखा था !

कॉलेज की कैन्टीन की वो, आखिरी बेन्च नहीं भूली जाती,
जिस पर मेरे नाम का तुमने, इक रुमाल रखा था !

मुहल्ले की चमेली, घर से जब बन-ठन के चलती है,
लड़के छेड़कर कहते हैं, कहाँ ये जमाल रखा था ?

कभी मेरे घरों की, तुम जो दीवारों को पढोगे,
कहोगे, वाह मियां ! क्या शेर यहाँ कमाल रखा था !

कोई पूछे तो रह-रह के, अपना नाम बता तो देता हूँ 'प्रसून',
मगर माँ ने तो मेरी, नाम मेरा 'लाल' रखा था !

12 comments:

  1. आपने जो आवाज़ दी है दूर से , अच्छा लगा . सार्थक शब्दों का यह सफ़र जारी रहे . शुभ कामना .--- राजीव चतुर्वेदी

    ReplyDelete
  2. कोई पूछे तो रह-रह के, अपना नाम बता तो देता हूँ 'प्रसून',
    मगर माँ ने तो मेरी, नाम मेरा 'लाल' रखा था !
    वाह बहुत ही सुंदर गजल कही आप ने धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. EK KHAAS ANDAJ MEIN LIKHTA HAI WO GAZAL
    KYONKI KISI NE HANSKE PUKARA THA USE GAZAL

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब --! आप का लिखने का अलग ढंग बेहद अच्छा लगा प्रसून जी !

    ReplyDelete
  5. kahte hain ki prasoon jee apke hain andaje -bayan aur. wakai lajwab hai apki shayree.man ko rahat si pahuncha gayee.

    ReplyDelete
  6. कॉलेज की कैन्टीन की वो, आखिरी बेन्च नहीं भूली जाती,
    जिस पर मेरे नाम का तुमने, इक रुमाल रखा था !


    कोई पूछे तो रह-रह के, अपना नाम बता तो देता हूँ 'प्रसून',
    मगर माँ ने तो मेरी, नाम मेरा 'लाल' रखा था !


    bahut achchha laga sahab.

    aise hi likhte raherin.

    ReplyDelete
  7. Pahli baar apke blogpe aayi hun...kya kamal ka likhte hain aap!

    ReplyDelete
  8. Tumhari bhav bahut achhe hain Ankur aur kuch rachnayen bahut achhi bani hain.is umra ke liye ye bahut jyada hai.shubhkamnayen tumhari lekhni aur samarth aur samraddh ho.

    ReplyDelete
  9. Tumhari bhav bahut achhe hain Ankur aur kuch rachnayen bahut achhi bani hain.is umra ke liye ye bahut jyada hai.shubhkamnayen tumhari lekhni aur samarth aur samraddh ho.

    ReplyDelete

Related Posts with Thumbnails