Monday, December 28, 2009

मेरे बाद तू आया . . .

तुझे जब भूलना चाहा तो फिर क्यों याद तू आया ?
क्यों आँखों में लिए चाहत की फिर फ़रियाद तू आया ?

मेरी साँसों की हर आहट का जब एहसास था तुझको ,
बड़ा अफ़सोस है मरने के मेरे बाद तू आया ।

By- Prasoon Dixit 'Ankur'

Really it's direct from the bottom of my soul for all of you.

Only read it and enjoy।

Because suffer, pain, sorrow is only for me not for you.

So, cheer the life.

God Bless You।

No comments:

Post a Comment

Related Posts with Thumbnails